Doorstep Banking kya hai, कैसे काम करती है और कौन इसका लाभ उठा सकता है?

Doorstep Banking kya hai: वर्तमान समय में, बैंकिंग सेवाएं व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन का अभिन्न अंग बन गई हैं। तकनीकी प्रगति के साथ, डोरस्टेप बैंकिंग यानी घर पर बैंकिंग सुविधा प्रदान करना, एक महत्वपूर्ण पहल बन गई है।

यह विशेषकर उन लोगों के लिए वरदान है जो बैंक शाखाओं तक पहुँचने में असमर्थ हैं। इसमें वरिष्ठ नागरिक, दिव्यांगजन, और दूर-दराज के क्षेत्रों के निवासी शामिल हैं।

Doorstep Banking kya hai

डोरस्टेप बैंकिंग का तात्पर्य है ग्राहकों को उनके घरों में बैंकिंग सेवाएं प्रदान करना। इसमें नकदी निकासी, जमा, चेक कलेक्शन, डिमांड ड्राफ्ट डिलीवरी, खाता विवरण, ऋण आवेदन, बीमा सेवाएं आदि शामिल हैं। इसका मुख्य लक्ष्य बैंकिंग सेवाओं को अधिक सुलभ और ग्राहक-अनुकूल बनाना है।

Doorstep Banking kya hai

डोरस्टेप बैंकिंग की आवश्यकता

डोरस्टेप बैंकिंग की जरूरत मुख्यतः बढ़ती आबादी और शहरीकरण के कारण है। इसके अतिरिक्त, वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों की बढ़ती संख्या ने भी इस सेवा की मांग को बढ़ाया है। 

यह सेवा उन व्यक्तियों को खास फायदा पहुंचाती है जो स्वास्थ्य या अन्य कारणों से बैंक शाखाओं तक जाने में असमर्थ हैं। दूरदराज के क्षेत्रों में भी, जहां बैंक शाखाएं नहीं हैं, यह सेवा अत्यंत उपयोगी है।

डोरस्टेप बैंकिंग के प्रकार

  • मोबाइल बैंकिंग: मोबाइल डिवाइस के माध्यम से बैंकिंग सेवाएं प्राप्त करना, जिसमें फंड ट्रांसफर, बिल भुगतान, खाता जानकारी प्राप्त करना आदि शामिल हैं। यह सुविधा ग्राहकों को कहीं भी, कभी भी बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाने का अवसर प्रदान करती है।
  • इंटरनेट बैंकिंग: कंप्यूटर या लैपटॉप के जरिए ऑनलाइन बैंकिंग सुविधाओं का उपयोग करना। इसमें खाते की जानकारी प्राप्त करने से लेकर ऑनलाइन लेन-देन, निवेश, और अन्य वित्तीय सेवाएँ शामिल हैं।
  • कॉल सेंटर बैंकिंग: फोन कॉल के माध्यम से बैंकिंग सेवाएं प्राप्त करना, जिसमें खाता संबंधी जानकारी, फंड ट्रांसफर, बिल भुगतान, और अन्य बैंकिंग प्रश्नों का समाधान शामिल है।
  • एटीएम बैंकिंग: एटीएम का उपयोग करके नकदी निकासी, जमा, और अन्य बुनियादी बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाना। यह विशेष रूप से उन क्षेत्रों के लिए सहायक है जहाँ बैंक शाखाएँ दूर हों।
  • बैंक मित्र बैंकिंग: यह सेवा ग्रामीण या दूरदराज के क्षेत्रों में बैंकों और ग्राहकों के बीच की कड़ी का कार्य करती है। बैंक मित्र, जो कि आमतौर पर स्थानीय व्यक्ति होते हैं, बैंकों की ओर से बैंकिंग सेवाएँ जैसे कि खाता खोलना, नकदी जमा और निकासी, पेंशन योजनाओं आदि की पेशकश करते हैं।

PSB अलायंस की भूमिका

पब्लिक सेक्टर बैंक्स (PSB) अलायंस ने डोरस्टेप बैंकिंग को और अधिक सुगम बनाने के लिए कदम बढ़ाए हैं। 

इस अलायंस के तहत आने वाले बैंकों ने मिलकर डोरस्टेप बैंकिंग की विभिन सेवाएं जैसे कि दस्तावेज़ जमा, चेक कलेक्शन, नकदी जमा और निकासी आदि को ग्राहकों के द्वार तक पहुंचाने का प्रबंध किया है। 

इस पहल से ग्राहकों को बैंक शाखाओं तक जाने की जरूरत नहीं पड़ती, जिससे उनका समय और प्रयास दोनों बचते हैं। PSB अलायंस द्वारा यह सेवाएं विशेष रूप से उन लोगों के लिए लाभदायक हैं जो विभिन्न कारणों से बैंक शाखा तक नहीं पहुंच पाते।

डोरस्टेप बैंकिंग कैसे काम करती है?

डोरस्टेप बैंकिंग सेवाएं बहुत ही सुविधाजनक और आसान होती हैं। ग्राहक बैंक की वेबसाइट या मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से इन सेवाओं का अनुरोध कर सकते हैं। बैंक के कर्मचारी या नियुक्त एजेंट निर्धारित समय पर ग्राहक के घर आकर बैंकिंग सेवाएं प्रदान करते हैं। यह सुविधा नकदी निकासी, चेक जमा, केवाईसी अपडेट, फॉर्म जमा आदि जैसी विभिन्न सेवाओं को कवर करती है।

विभिन्न बैंक जो डोरस्टेप बैंकिंग सेवाएं प्रदान करते हैं:

क्रमांकबैंक का नामडोरस्टेप बैंकिंग सेवाएं
1भारतीय स्टेट बैंकनकदी निकासी, नकदी जमा, चेक जमा, आदि
2आईसीआईसीआई बैंकडिमांड ड्राफ्ट डिलीवरी, चेकबुक डिलीवरी, आदि
3एचडीएफसी बैंकनकदी पिकअप, नकदी डिलीवरी, चेक पिकअप, आदि
4एक्सिस बैंकचेक/ड्राफ्ट डिलीवरी, फॉर्म और दस्तावेज़ जमा
5पंजाब नेशनल बैंकचेक जमा, नकदी जमा/निकासी, खाता विवरण आदि
6कैनरा बैंकनकदी, चेक, ड्राफ्ट जमा और निकासी सेवाएं
7बैंक ऑफ बड़ौदानकदी जमा/निकासी, चेक जमा, खाता स्टेटमेंट
8इंडियन बैंकचेक जमा, डिमांड ड्राफ्ट जमा, नकदी जमा/निकासी

यह ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि उपरोक्त बैंकों द्वारा प्रदान की जाने वाली डोरस्टेप बैंकिंग सेवाएँ समय-समय पर बदल सकती हैं। इसलिए, नवीनतम जानकारी और सेवाओं के लिए बैंकों की आधिकारिक वेबसाइट या नजदीकी शाखा से संपर्क करना सर्वोत्तम होगा।

डोरस्टेप बैंकिंग के लाभ

डोरस्टेप बैंकिंग से ग्राहकों को कई लाभ होते हैं। इससे उन्हें समय और ऊर्जा की बचत होती है, और घर बैठे ही बैंकिंग की सुविधा मिलती है। यह सेवा विशेष रूप से उन ग्राहकों के लिए फायदेमंद है, जो शारीरिक या अन्य कारणों से बैंक शाखा तक पहुंचने में असमर्थ हैं। इसके अलावा, यह वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देती है और सभी वर्गों के लोगों को बैंकिंग सेवाओं तक आसान पहुँच प्रदान करती है।

क्या घर-घर बैंकिंग सेवा मुफ्त है?

नहीं, घर-घर बैंकिंग सेवा (Doorstep Banking) मुफ्त नहीं होती। इस सेवा का उपयोग करने पर, प्रत्येक DBS अनुरोध के लिए ग्राहकों को कुछ शुल्क अदा करना पड़ता है, जो कि आमतौर पर ₹60 से ₹200 (प्लस कर) के दायरे में होता है। अगर यह सेवाएं किसी गठबंधन के तहत पेश की जाती हैं, तो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (PSBs) के लिए प्रत्येक वित्तीय या गैर-वित्तीय सेवा के लिए ₹75 (प्लस कर) का भुगतान करना पड़ता है।

निष्कर्ष

डोरस्टेप बैंकिंग के भविष्य की संभावनाएं अत्यंत उज्ज्वल हैं। इसकी बढ़ती लोकप्रियता और नए तकनीकी विकासों के साथ, इस क्षेत्र में और अधिक सुधार और विकास होने की उम्मीद है। यह न केवल बैंकिंग सेवाओं को और अधिक सुविधाजनक बनाएगा बल्कि वित्तीय समावेशन को भी बढ़ावा देगा। आने वाले समय में, हम डोरस्टेप बैंकिंग में और भी अधिक नवाचारों और उन्नति की अपेक्षा कर सकते हैं, जो न केवल बैंकिंग क्षेत्र को बल्कि समाज के प्रत्येक वर्ग के लिए लाभदायक होगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here