SoC kya hai, SoC full form in hindi में क्या होता है?

क्या आपको पता है, की SoC kya hai, SoC full form in hindi में क्या होता है? आपने बहुत बार सुना होगा या आपने यूट्यूब में किसी मोबाइल या किसी और Devices के रिव्यु में किसी reviewer को कहते सुना होगा।

इसे हम यह समझ बैठते है की यह प्रोसेसर की बात कर रहे है। परन्तु ऐसा बिलकुल नहीं है, हम सिर्फ प्रोसेसर को जोड़ कर “SoC” को नहीं देख सकते है। तो चलिए जानते है, एसओसी क्या होता है, SoC का फुल फॉर्म हिंदी में क्या होता है?

SoC kya hai
SoC kya hai

SoC kya hai – SoC Full Form in Hindi

SoC का full form: System on Chip होता है। जिस एक चिप में प्रोसेसर,RAM, Memory, इस्त्यादी सभी कंपोनेंट्स को एक साथ जोड़ा जाता है, उसे हम SoC कहते है।

SoC full form in hindi
SoC full form in hindi

Desktop computer हो या फिर laptop इससे पहले आपको सभी कॉम्पोनेन्ट अलग अलग इनस्टॉल करने होते थे जैसे प्रोसेसर, RAM, ग्राफ़िक कार्ड, Memory इत्यादि, यह सारे कॉम्पोनेन्ट plug and play की भाँती काम करते थे, इन्हे आसानी से निकाला और बापिस लगाया जा सकता थे। हालांकि अभी भी ज्यादा तर डेस्कटॉप और लैपटॉप में इसी तरह से सभी कॉम्पोनेन्ट को करेंगे किया जाता है।

SoC chip में आपको एक ही chip के अंदर प्रोसेसर, रेम, memory, graphics, I/O, सभी प्रकार के कॉम्पोनेन्ट देखने को मिल जाते है। इन सभी कॉम्पोनेन्ट को एक चिप में सोल्डरिंग की सहायता से जोड़ा जाता है, यह पार्ट्स आसानी से निकलने बाले नहीं होते। आम तोर पर आपको SOC मोबाइल फ़ोन और कॉम्पैक्ट लैपटॉप आदि में देखने को मिल जाती है।

एसओसी चिप के फायदे – Advantages of SOC chip

  1. Speed: जब हम अपने कोर कॉम्पोनेन्ट को एक ही चिप में लगाते है, तो सभी कॉम्पोनेन्ट का एक जगह पर होने से कमिनिकेशन करने की स्पीड बढ़ती है। और जिससे हम अपने कार्य को उस डिवाइस में जल्दी से निपटा सकते है।
  2. Low Power consumption: इससे Power consumption भी कम होता है। सभी कॉम्पोनेन्ट एक साथ लगे होने से पावर लूज़ नहीं होता है, और हमें SOC में Low Power consumption देखने को मिलता है।
  3. Compact Size: एक ही चिप में एक से अधिक कंपोनेंट लगे होने के कारण इसका साइज भी कम होता है। और हमे इसके कारण कॉम्पेक्ट(स्लिम) स्मार्टफोन,स्मार्टवॉच, Smart Ring जैसे small Devices देखने को मिलते है।

एसओसी चिप के नुकसान – Disadvantages of SOC chip

  1. Hard to Customize or Upgrade: Sco में component को soldering की सहायता से जोड़ा जाता है। अगर आप बाद में इसके कुछ पार्ट कस्टमाइज या अपग्रेड करना चाहते है, तो वह इसमें बहुत मुश्किल हो जाता है, या यूँ कहे की नहीं कर सकते है।
  2. Expensive and Complex to Make: एक नया SoC बनाना एक Expensive और Complex होता है। इसमें बहुत पैसा खर्च होता है और इस पर काम करने के लिए बहुत सारे स्मार्ट लोगों की आवश्यकता होती है। यह कठिन हो सकता है, खासकर छोटी कंपनियों के लिए या उन गैजेट्स के लिए जो बड़ी संख्या में नहीं बनाए जाते हैं।
  3. Over Heating Issue: SoC में हर चीज़ को एक साथ इतने करीब पैक करना होता है; जिससे की हीटिंग बढ़ने के कारन ओवर हीटिंग का इशू बड़ सकता है। यह गर्मी एक समस्या हो सकती है क्योंकि यह SoC को धीमा कर सकती है या इसे नुकसान भी पहुंचा सकती है। इसलिए, विशेष शीतलन सामग्री की आवश्यकता होती है, जो चीजों को अधिक जटिल और महंगा बना सकती है।
  4. Quickly Becomes Outdated: SoCs तेजी से पुरानी हो जाती हैं, ठीक उसी तरह जैसे स्मार्टफोन एक या दो साल के बाद पुराने लगने लगते हैं। चूँकि आप केवल SoC के कुछ हिस्सों को नहीं बदल सकते हैं, इसलिए नवीनतम तकनीक के साथ बने रहने के लिए आपको अक्सर एक बिल्कुल नया SoC खरीदने की आवश्यकता होती है। इसका मतलब है कि SoCs का उपयोग करने वाले उपकरणों को अधिक बार बदलने की आवश्यकता हो सकती है।

निष्कर्ष: तो आज हमें सीखा SoC kya hai और एसओसी के फायदे और एसओसी चिप के नुकसान क्या-क्या है। उम्मीद है आपको यह शार्ट और क्रिस्प जानकारी अच्छी लगी हो। अगर आपका कोई सवाल है तो आप कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here